मधुज्वाल : सुमित्रानंदन पंत
Madhujwal Sumitranandan Pant
मधुज्वाल उमर ख़ैयाम की रुबाइयों का अनुवाद | Hindi Poetry Sumitranandan Pant
सुमित्रानंदन पंत की प्रसिद्ध कविताएँ
सुमित्रानंदन पंत की रचनाएँ

रम्य मधुवन हो स्वर्ग समान

रम्य मधुवन हो स्वर्ग समान,सुरा हो, सुरबाला का गान!तरुण बुलबुल की विह्वल तानप्रणय ज्वाला से भर दे प्राण!न विधि का भय, न जगत का ज्ञान,स्वर्ग की स्पृहा, नरक का ध्यान,-मदिर…

0 Comments

भला कैसे कोई निःसार

भला कैसे कोई निःसारस्वप्न पर जाए जग के वार?हँस रही जहाँ अश्रुजल मालविभव सुख के ओसों की डार!अथक श्रम से सुख सेज सँवारलेटता जब तू शोक बिसार,बज्र स्वर में कहता…

0 Comments

फेन ग्रथित जल, हरित शष्प दल

फेन ग्रथित जल, हरित शष्प दल,जिससे सरित पुलिन आलिंगित,उस पर मत चल, वह चिर कोमलललना की रोमावलि पुलकित!गुल लाला सम मुख छबि निरुपमउस मृग नयनी की थी सस्मित,वह मुकुलित तन…

0 Comments

चपल पलक से कुटिल अलक से

चपल पलक से कुटिल अलक सेबिंध बँध कर होना हत मूर्छित,सतत मचलना, वृत्ति बदलनाहृदय, तुम्हारा यदि स्वभाव नित!फिर अंतिम क्षण तजना प्रिय तनप्राण, तुम्हारा अगर यही प्रण,विधि ने क्यों कर…

0 Comments

हृदय जो सदय, प्रणय आगार

हृदय जो सदय, प्रणय आगार,भक्त, उस उर पर कर अधिकार!न मंदिर मसजिद के जा द्वारन जड़ काबे पर तन मन वार!अगर ईश्वर को कुछ स्वीकारहृदय जो सदय, प्रणय आगार!हृदय पर…

0 Comments

इस जग की चल छाया चित्रित

इस जग की चल छाया चित्रितरंग यवनिका के भीतरछिप जाएँगें जब हम प्रेयसि,जीवन का छल अभिनय कर!रंग धरा पर हास अश्रु केदृश्य रहेंगे इसी प्रकारहम न रहेंगे, मायामय कापर न…

0 Comments

निस्तल यह जीवन रहस्य

निस्तल यह जीवन रहस्य,यदि थाह न मिले, वृथा है खेद!सौ मुख से सौ बातें कहलेंलोग भले, तू रह अक्लेद!सूक्ष्म हृदय इस मुक्ताफल काकभी न कोई पाया बेध,गोपन सत्य रहा नित…

0 Comments

यहाँ उमर के मदिरालय में

यहाँ उमर के मदिरालय मेंकोई नहीं दुखी या दीन,सब की इच्छा पूरी करतीसुरा, बना सबको स्वाधीन!जब तक आशा श्वासा उर मेंसखे, करो मदिराधर पान,क्षण भर को भी रहे न मानसजग…

0 Comments

लता द्रुमों, खग पशु कुसुमों में

लता द्रुमों, खग पशु कुसुमों मेंसकल चराचर में अविकारभरी लबालब जीवन मदिराउमर कह रहा सोच विचार!पान पात्र हों भले टूटतेमदिरालय में बारंबारलहराती ही सदा रहेगीजग में बहती मदिराधार!

0 Comments

मधु बाला के साथ सुरा पी

मधु बाला के साथ सुरा पी,उमर विजन में कर तू वास,जग से दूर, जहाँ जीवन केतापों का न मिले आभास!दो दिन का साथी यह जीवनज्यों वन फूलों का आमोद,गुलवदनों से,…

0 Comments