हृदय जो सदय, प्रणय आगार

हृदय जो सदय, प्रणय आगार,
भक्त, उस उर पर कर अधिकार!
न मंदिर मसजिद के जा द्वार
न जड़ काबे पर तन मन वार!
अगर ईश्वर को कुछ स्वीकार
हृदय जो सदय, प्रणय आगार!
हृदय पर यदि न तुझे अधिकार
भक्त, पी अमर प्रणय मधु धार!

Leave a Reply