वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया

वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया,
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया,
ब्रह्म बन के ओ ब्रह्म बन के
ब्रह्म बन के श्री दसरथ का लाल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

अब बधावा चहु ओर बजने लगे,
बांटने भर के बांटने भर के
बांटने भर के मोती का थाल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

देवता सब भी दौड़े दर्शन के लिए,
अपने जीवन को अपने जीवन को
अपने जीवन को करने निहाल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

भक्त के वास्ते भक्त वत्सल बने
और रावण के लिए बन के काल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

राम राजा बनेंगे खुशी है नगर में,
बीच में बन के बीच में बन के
बीच में बन के कोई दीवार आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

राम वन जाएंगे जब सुनी सब ये बात,
देश मे जैसे देश मे जैसे
देश मे जैसे मानो भूचाल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया,
ब्रह्म बन के श्री दसरथ का लाल आ गया
वक़्त सुंदर सुहाना कमाल आ गया।।

Leave a Reply