राम नाम के साबुन से जो मन का मेल भगाएगा

राम नाम के साबुन से जो मन का मेल भगाएगा,
निर्मल मन के शीशे में तू राम के दर्शन पाएगा।।

रोम रोम में राम है तेरे वो तो तुझसे दूर नही,
देख सके न आंखे उनको उन आंखों में नूर नही,
देखेगा तू मन मंदिर में ज्ञान की ज्योत जलाएगा,
निर्मल मन के शीशे में तू राम के दर्शन पाएगा।।

यह शरीर अभिमान है जिसका प्रभु कृपा से पाया है,
झूठे जग के बंधन में तूने इसको क्यो बिसराया है,
राम नाम का महामंत्र ये साथ तुम्हारे जाएगा,
निर्मल मन के शीशे में तू राम के दर्शन पाएगा।।

झूठ कपट निंदा को त्यागो हर इक से तुम प्यार करो,
घर आये मेहमान की सेवा से ना तुम इनकार करो,
पता नही प्यारे तू कब नारायण में मिल जाएगा,
निर्मल मन के शीशे में तू राम के दर्शन पाएगा।।

राम नाम के साबुन से जो मन का मेल भगाएगा,
निर्मल मन के शीशे में तू राम के दर्शन पाएगा।।

Ram Naam Ke Sabun Se Jo
Man Ka Mail Bhagayega
Nirmal Man Ke Sheeshe Mein Tu
Ram Ke Darshan Paega

Rom Rom Mein Ram Hai Tere
Vo To Tujhse Door Nahi
Dekh Sake Na Ankhe Unko
Un Ankhon Mein Noor Nahi
Dekhega Tu Man Mandir Mein
Gyan Ki Jyot Jalaega
Nirmal Man Ke Sheeshe Mein Tu
Ram Ke Darshan Paega

Yah Sharir Abhiman Hai Jiska
Prabhu Krpa Se Paya Hai
Jhuthe Jag Ke Bandhan Mein Tune
Isko Kyo Bisaraya Hai
Ram Nam Ka Mahamantr Ye
Sath Tumhare Jaega
Nirmal Man Ke Sheeshe Mein Tu
Ram Ke Darshan Paega

Jhuth Kapat Ninda Ko Tyago
Har Ek Se Tum Pyar Karo
Ghar Aaye Mehaman Ki Seva Se
Na Tum Inkar Karo
Pata Nahi Pyare Tu Kab
Narayan Mein Mil Jaega
Nirmal Man Ke Sheeshe Mein Tu
Ram Ke Darshan Paega

Ram Naam Ke Sabun Se Jo
Man Ka Mail Bhagaega
Nirmal Man Ke Sheeshe Mein Tu
Ram Ke Darshan Paega

Leave a Reply