रामजी के भक्त है हम

रामजी के भक्त है हम
श्री राम के हम पुजारी।।

प्रीत रीत शील हो यह धरती हमारी
तुलसी वाणी श्री राम की ये कहानी।।

देती है शिक्षा पुरुषार्थ की हमेशा
राज पाठ और घर बार छोड़कर
निकल पड़े है करने तपस्या।।

राम राम राम राम राज्य
राम राम राम राम राज्य

रामजी के भक्त है हम
श्री राम के हम पुजारी।।

Ramji Ke Bhakt Hai Hum
Shree Ram Ke Hum Pujari

Preet Reet Sheel Ho
Yah Dharati Hamari
Tulsi Vaani Shree Ram Ki Ye Kahani

Deti Hai Siksha
Purusharth Ki Hamesha

Raj Path Aur Ghar Baar Chhodkar
Nikal Pade Hai Karne Tapsya

Ram Ram Ram Ram Rajyam
Ram Ram Ram Ram Rajyam

Ramji Ke Bhakt Hai Hum
Shree Ram Ke Hum Pujari

Leave a Reply