मधु बाला के साथ सुरा पी

मधु बाला के साथ सुरा पी,
उमर विजन में कर तू वास,
जग से दूर, जहाँ जीवन के
तापों का न मिले आभास!
दो दिन का साथी यह जीवन
ज्यों वन फूलों का आमोद,
गुलवदनों से, मधु अधरों से
करे ले कुछ क्षण हास विलास!

Leave a Reply