भगवान भला करना सबका मेरे राम भला करना सबका

भगवान भला करना सबका मेरे राम भला करना सबका
मोह लोभ में लोग फसे है दुख राहे पे तिनका तिनका
भगवान भला करना सबका …………..

धरती पर अब पाप बड़ा है नशा दोलत का पर्दा पड़ा है  
हर कोई है खून का प्यासा रखते नही है किसी से आशा
जग में ज्ञान की कमी हुई है फेरा है मनका मनका
मेरे राम भला करना सबका भगवान भला करना सबका

दूरा चारी इंसान बना है उतना ही वो खुद में पना है
ईर्ष्या जलन की भावना रखते करये अच्छा कर नही सकते
अहंकार में फस कर देखो रेहता है शंका शंका
भगवान भला करना सबका …………..

Leave a Reply