कृपा के बिना काम बनता नहीं है

परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,
कृपा के बिना काम चलता नहीं है,
कृपा के बिना काम बनता नहीं है,
निराशा निशा नष्ट होती ना तब तक,
दया भानु जब तक निकलता नहीं है।।

अमित वासनाये अमित रूप ले कर,
अंत करण में उपद्रव मचाती,
तब फिर कृपासिंधु श्री राम जी के,
अनुग्रह बिना मन सम्बलता नहीं है।।

म्रगवारी जैसे असत इस जगत से,
पुरुषार्थ के बल पर बचना है मुश्किल,
श्री हरि के सेवक जो छल छोड़ बनते,
उन्हें फिर ये संसार छलता नहीं है।।

सद्गुरू शुभाशीष पाने से पहले,
जलता नहीं ग्यान दीपक भी घर में,
बहती न तब तक समर्पण की धारा,
अहंकार जब तक घलता नहीं है।।

राजेश्वरानन्द आनंद अपना,
पाकर ही लगता है ये जग जाल सपना,
तन बदले कितने भी पर प्रभु भजन बिन,
कभी जन का जीवन बदलता नहीं।।

Prishram Kare Koi Kitna Bhi Lekin
Kripa Ke Bina Kaam Banta Nahi

Nirasha Nisha Nasht Hoti Na Tabtak
Daya Bhanu Jab Tak Nikalta Nahi Hai

Amit Vasnaye Amit Roop Lekar
Antah karan Mein Upadrav Machati

Tab Fir Kripa Sindhu Shree Ram Jee Ke
Anugrah Bina Man Sambhalta Nahi Hai

Prishram Kare Koi Kitna Bhi Lekin
Kripa Ke Bina Kaam Banta Nahi

Mrigavaari Jaise Asatya Iss Jagat Se
Purusharth Ke Bal Par Bachna Hai Mushkil

Shree Hari Ke Sevak Jo Chhal Chhod Bante
Unhe Ye Fir Sansaar Chhalata Nahi Hai

Prishram Kare Koi Kitna Bhi Lekin
Kripa Ke Bina Kaam Banta Nahi

Sad Guru Shubhasheesh Paane Se Pahle
Jalta Nahi Gyan Deepak Bhi Ghar Mein

Behti Na Tabtak Samarpan Ki Sarita
Ahankaar Jabtak Galta Nahi Hai

Prishram Kare Koi Kitna Bhi Lekin
Kripa Ke Bina Kaam Banta Nahi

Rajeshwaranand Anand Apna
Paakar Ke Hi Lagta Hai
Ye Jag Jaal Sapna

Tan Badle Kitne Bhi
Par Prabhu Bhajan Bin
Kabhi Jan Ka Jeevan Badalta Nahi Hai

Prishram Kare Koi Kitna Bhi Lekin
Kripa Ke Bina Kaam Banta Nahi

Leave a Reply