करलो कीर्तन भजलो राम

करलो कीर्तन भजलो राम,
भजले मुख से प्यारे नाम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम जय जय राम ।।

मन में जाली है ज्योति कभी बुझे ना प्रेम की ज्योति,
सच्चे मन से जो भी पुकारे मनसा पूरी होती।।

मनका मनका फेर बराबर दो अक्षर का प्यारा नाम,
मनका मनका फेर बराबर दो अक्षर का प्यारा नाम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम जय जय राम।।

हाथ पकड़ कर चलते प्यारे संग संग रहते राम तुम्हारे
राम की नगरी राम बिसारे रोम रोम में राम तुम्हारे
छोड़ दे प्यारे डोरी उस पर राम बनाते बिगड़े काम
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम जय जय राम।।

सुख सागर है राम का दरिया
खेवट नाम है जीवन नैया
मर्यादा में आन है बसिया
राम नचाये नाचे है दुनिया
देख तू सज्जन राम का बनकर
देख तू सज्जन राम का बनकर
लागे न तेरा कोई भी दाम
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम।।

तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
तेरे अंदर मेरे अंदर बैठे है सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम,
सिया राम सिया राम सिया राम जय जय राम।।

Leave a Reply